adsense code

Monday, August 3, 2015

जो हमको



  • जो हमको समझाता हे वह गुरु हे ,वह हमारे ह्रदय के गहराई तक जाकर समझाता हे !

Sunday, August 2, 2015

जिज्ञासु : गुरुदेव ! स्वयं को मूल्यवान बनाने








जिज्ञासु : गुरुदेव ! स्वयं को मूल्यवान बनाने और समाज के लिए स्वयं को उपयोगी बनाने के लिए हमें
क्या करना चाहिए ?

पुज्य गुरुदेव ! आप सबको परमात्मा ने यह जीवन दिया ! इसमें कलाओं का विकास होना चाहिये ! इस जीवन को कीमती बनायें और कीमती बनाने का तरीका क्या हो सकता हे ! प्राण उर्जा को आदमी ने अपनी ईर्ष्या मे ,रोग में,भोग में जलाया ! जबकी इसका उपयोग आत्म उत्थआन के लिए किया जाना चाहिए ! इसके बाद अगला सोपान आता हे मन की दुनिया का ! मानसिक रूप से हम अपने आपको प्रसन्न रखें , खिला हुआ रखें ! अपना बौद्धिक् विकास करें ! बुद्धि तेज हो , लेकिन प्रेम से और धर्म से जुडी हुई हो ! बिगडी हुई बुद्धी अपना भी विनाश करती हे और समाज का भी विनाश करती हे ! इसलिए बुद्धि को धर्म की शरण में लाना चाहिये !


--

Saturday, August 1, 2015

जीवन के

Visit Daily BLOGS For MORE POSTINGS
http://jiggyaasa.blogspot.in/
http://adhyatmik.blogspot.in/

http://rajmgarg.blogspot.in/
http://guruvatikasechunephool.blogspot.in/
http://wwwmggsantvani.blogspot.in/
http://ammritvanni.blogspot.in/
http://guruvanni.blogspot.in/
http://mggarga.blogspot.in/




परम पूज्य सुधांशुजी महारा

जीवन के किसी दुःख या ठोकर से इंसान सबक ले ले तो वह ठोकर ठोकर नहीं होती। वह तो आपके लिए एक सीख बन जाती है।

Friday, July 31, 2015

भोर का उजाला




" नवसूर्य, नूतन किरणें , नव आशायें, नई आकांक्षाए, नव कमल, नव सुमन लेकर नववर्ष आता  हैं ।  इसका स्वागत करो , तमस के पार जाकर, भोर का उजाला अपने जीवन में बिखेरें । नववर्ष में भक्ति - शक्ति का जागरण हो, सुख समरिद्धि की अभिवृद्धि हो, इसी पावन मंगलकामना के साथ नव वर्ष का स्वागत किया करो ।"